पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 23 मार्च 2010

मैं हिन्दुस्तानी हूँ

मै हिन्दुस्तानी हूँ 
 मजहब की दीवार 
कभी गिरा नहीं पाया 
किसी गिरते को 
कभी उठा नहीं पाया
नफरतों के बीज 
पीढ़ियों में डालकर 
इंसानियत का दावा 
करने वाला 
मैं हिन्दुस्तानी हूँ

भाषा को अपना 
मजहब बनाया
देश को फिर भाषा की 
सूली पर टँगाया
अपने स्वार्थ की खातिर
भाषा का राग गाया
कुर्सी की भेंट मैंने
लोगों का जीवन चढ़ाया
क्षेत्रवाद  की फसल उगाकर
इंसानियत का दावा 
करने वाला 
मैं हिन्दुस्तानी हूँ

जातिवाद की भेंट चढ़ाया
लहू को लहू से लडवाया
गाजर -मूली सा कटवाया
फिर भी कभी सुकून ना पाया
नफरत की आग सुलगाकर
अमन का दावा करने वाला
मैं हिन्दुस्तानी हूँ


शहीदों के बलिदान को 
हमने भुलाया
कुछ ऐसे फ़र्ज़ अपना
हमने निभाया
फ़र्ज़ का, बलिदान का,
देशभक्ति का पाठ
सिर्फ दूसरों को समझाया
आतंक को पनाह देने वाला 
शहीदों के बलिदान को
अँगूठा दिखाने वाला 
मैं हिन्दुस्तानी हूँ
हाँ, मैं सच्चा हिन्दुस्तानी हूँ
 

19 टिप्‍पणियां:

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Aaj man ko chhoo liya aapne is deshbhakti se poorn rachna se

नीरज गोस्वामी ने कहा…

कमाल की रचना है...सच्चाई को आपने बेहद ख़ूबसूरती से प्रस्तुत किया है...हर हिन्दुस्तानी को इसे पढ़ कर सबक लेने की जरूरत है...मेरी बधाई स्वीकारें...
नीरज

Aparajita ने कहा…

bahut sundar vandana ....
ek hindustai ka sachha roop ko dikhya...sachmuch yahi hai ham.....
sundar chitran....tumhari har rachna man ko chhu jati hai....kadwi sachayee ko kitni sahjta se dikha diya...badhyee....ham hindustaniyo ko aayena dikha diya....

Aparajita ने कहा…

bahut sundar vandana ....congrtes
ek hindustai ka sachha roop ko dikhya...sachmuch yahi hai ham.....
sundar chitran....tumhari har rachna man ko chhu jati hai....kadwi sachayee ko kitni sahjta se dikha diya...badhyee....ham hindustaniyo ko aayena dikha diya....

M VERMA ने कहा…

जातिवाद की भेंट चढ़ाया
लहू को लहू से लडवाया
गाजर -मूली सा कटवाया
फिर भी कभी सुकून ना पाया
बहुत सुन्दर कटाक्ष और बेधती सी रचना
लाजवाब

rashmi ravija ने कहा…

वाह वंदना जी, क्या कमाल का लिखा है...हर हिन्दुस्तानी ये कविता पढ़कर एक बार तो जरूर खुद को पलट कर देखेगा...बहुत ही बढ़िया व्यंग...आईना दिखता हुआ.

aarya ने कहा…

सादर वन्दे!
अच्छी कविता!
एक शिकायत भी कि इस प्रकार के सोच वाले खतरनाक ही सही लेकिन कम हैं यैसे में इनके नाम पर इस हिंदुस्तान को, इस धरती को जोड़कर गलत नहीं कह सकते, मेरे हिसाब से अगर इस कविता का शीर्षक "क्या मै हिन्दुस्तानी हूँ" होता तो ज्यादा ठीक होता.
मेरी बात को अन्यथा ना लें, इसी आग्रह के साथ ..
रत्नेश त्रिपाठी

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

दिल खुश हुआ वंदना जी, अपने हिन्दुस्तानियों की असली परिभाषा आपकी रचना के मार्फ़त पढ़ कर !शुरू की चार लाइनों में ही अपने सब कुछ बोल दिया !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आपकी तड़प नज़र आती है इस रचना में ... काश सब सच्चे हिन्दुस्तानी बन सकें ...

sangeeta swarup ने कहा…

क्षेत्रवाद की फसल उगाकर
इंसानियत का दावा
करने वाला
मैं हिन्दुस्तानी हूँ


पूरी रचना ही सटीक है...हिन्दुस्तानी के दर्द को बहुत कटाक्ष से वर्णित किया है....बधाई

sharda monga (aroma) ने कहा…

केवल भारत ही नहीं अपितु समस्त संसार में सदा से चल रही यह तो शक्ति की प्रतियोगिता है. महाभारत का युद्ध सदा से होता रहा है

vedvyathit ने कहा…

ydi sb hindustani ho jaye to fir bat hi kya hai
prntu jo log bat bin bat pr mjhb ke nam pr bkheda khda krten hai un ka kya krogi desh aur desh ka kanoon jb mjhb se bda hai to hindustani kase ho gye tja udahrn ldki ki vivah ki umr pr hi khda kr diya hai ki hmare mjhb me 18 nhi hai pr yh bhi to hai ki km bhi nhi hai fir 28 vrsh manne me kya mjboori hai pr mjhb nam ki bhi to bdi bimari hai fir aap rt rhi hain hindustani hona
dr. ved vyathit

मनोज कुमार ने कहा…

विचारोत्तेजक!

देवेश प्रताप ने कहा…

बिल्कुल सच ....यही है एक हिन्दुस्तानी का सच .....बहुत बढ़िया प्रस्तुति

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

वंदना जी,
सच में बिलकुल झकझोर देने वाली रचना लिखी है आपने!
शुक्रिया!

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

आपने देशभक्ति का पाठ फिर याद कराया है .....शुक्रिया ......!!

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

मैं हिन्दुस्तानी हूँ ... पढ़ी भाव प्रधान और सही सोच की रचना है वंदना जी की.
- विजय

Akhtar Khan Akela ने कहा…

aadrniya vandna ji men hindustani hun yun to samany baat he lekin aapne likh dil jhakjhor diya he or vastav men hindustani kya he usko aapne pribhashit kiya he akhtar khan akela kota rajasthan

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

आईना सी लगी आपकी ये रचना।